17 नवंबर 2014

मैं और वह

------------------कविता-श्रृंखला
[4]
उसने मुझे अपने आंसुओं में रेत के महीन कणों की तरह छुपा रखा था
आंसुओं के नदी बनने से पहले
मैंने उससे कहा था : ड्रॉप दिस आइडिया..
मैं तुम्हारी पलकों पर ओस का फूल बनकर बिखरना चाहता हूं
नो, इट्स ए बैड आइडिया..
मैं तो समुद्र में विलीन होने तक तुम्हारे साथ-साथ चलना चाहती हूं :
उसने मुझे लाजवाब करते हुए कहा
तब से वह नदी है और मैं रेत
प्यारे सैलानियो, हमारे सीमांतों को गंदला न करें
अपनी लापरवाह आज़ादियों से...
_______________
[दिलीप शाक्य ]

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें