3 जनवरी 2014

ग़ज़ल / दिलीप शाक्य

टूटे हुए दिलों की आवाज़ फिर जवां है
जलसानगर में यारो इक सिंफ़नी रवां है

बोसों के फूल अब भी सीने में खिल रहे हैं
मैं बाग़ में खड़ा हूं वो गुलमोहर कहां है

बाज़ार खुल गया है और जेब भी भरी है
बोलो तो दाम पूछूं दिल की भी इक दुकां है

कोहरा छंटे तो देखूं रंगीं सुबह का जादू
शब की गुज़ारिशों का क्या रंग आसमां है 

जुल्फ़ें तुम्हारी कितनी पुरपेंच हो गयी हैं
इनमें किसी सियासत का फिर मुझे गुमां है

है दर्द ग़र नदी सा दिल भी तो हो समंदर
किश्ती सा हूं भंवर में दरिया ये बेकरां है

सज़दा करुं मैं क्योंकर मुंह फेरकर खड़े हो
मेरा भी कोई आख़िर अंदाज़ है बयां है

3 टिप्‍पणियां:

  1. ***आपने लिखा***मैंने पढ़ा***इसे सभी पढ़ें***इस लिये आप की ये रचना दिनांक 6/01/2014 को नयी पुरानी हलचल पर कुछ पंखतियों के साथ लिंक की जा रही है...आप भी आना औरों को भी बतलाना हलचल में सभी का स्वागत है।


    एक मंच[mailing list] के बारे में---


    एक मंच हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित एक संयुक्त मंच है
    इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है
    उद्देश्य:
    सभी हिंदी प्रेमियों को एकमंच पर लाना।
    वेब जगत में हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य को सशक्त करना
    भारत व विश्व में हिंदी से सम्बन्धी गतिविधियों पर नज़र रखना और पाठकों को उनसे अवगत करते रहना.
    हिंदी व देवनागरी के क्षेत्र में होने वाली खोज, अनुसन्धान इत्यादि के बारे मेंहिंदी प्रेमियों को अवगत करना.
    हिंदी साहितिक सामग्री का आदान प्रदान करना।
    अतः हम कह सकते हैं कि एकमंच बनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी के साहित्यकारों व हिंदी से प्रेम करने वालों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां उनकी लगभग सभी आवश्यक्ताएं पूरी हो सकें।
    एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में विचारों का आदान-प्रदान कर सकेंगे।
    कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
    http://groups.google.com/group/ekmanch
    यहां पर जाएं। या
    ekmanch+subscribe@googlegroups.com
    पर मेल भेजें।


    उत्तर देंहटाएं

  2. 3 जनवरी 2014
    ग़ज़ल / दिलीप शाक्य
    टूटे हुए दिलों की आवाज़ फिर जवां है
    जलसानगर में यारो इक सिंफ़नी रवां है

    बोसों के फूल अब भी सीने में खिल रहे हैं
    मैं बाग़ में खड़ा हूं वो गुलमोहर कहां है

    बाज़ार खुल गया है और जेब भी भरी है
    बोलो तो दाम पूछूं दिल की भी इक दुकां है

    कोहरा छंटे तो देखूं रंगीं सुबह का जादू
    शब की गुज़ारिशों का क्या रंग आसमां है

    जुल्फ़ें तुम्हारी कितनी पुरपेंच हो गयी हैं
    इनमें किसी सियासत का फिर मुझे गुमां है

    है दर्द ग़र नदी सा दिल भी तो हो समंदर
    किश्ती सा हूं भंवर में दरिया ये बेकरां है

    सज़दा करुं मैं क्योंकर मुंह फेरकर खड़े हो
    मेरा भी कोई आख़िर अंदाज़ है बयां है

    बहुत सशक्त गज़ल। हर अशआर शानदार।

    उत्तर देंहटाएं