15 मई 2012

एक स्त्री ने एक पुरुष को पुकारा

धुंध  में तड़ित  की तरह लहराई 
सेज  पर बेहिस  पड़ी 
एक  उदास  आवाज़  
सुदूर जंगल  की कटीली झाड़ियों को चीरता 
दुगने वेग  से लौटा 
एक  लहू लुहान  घोड़ा 
अपनी कौम  से अलग  होकर 
........................
........................
धुंध  में बाहें फैलाकर 
एक  स्त्री ने एक  पुरुष को पुकारा 
एक  पुरुष के  हाथ  में  पिस्टल  थी  
और हवा  में  फैल  चुकी थी खून  की कच्ची बू 
.......................
.......................
हरे पेड़ों के झुरमुट से दिखी 
एक  औरत  की नीली पीठ 
चेहरे की जगह 
एक  पतंग  थी ओस  में भीगी हुई अम्लान 
.......................
......................
(लम्बी कविता 'आग  के उदास  स्केच' से एक  अंश ...)

                                     -दिलीप शाक्य 

3 टिप्‍पणियां:

  1. Nice kavita.

    Please see

    दशक का ब्लॉगर, एक और गड़बड़झाला
    http://blogkikhabren.blogspot.in/2012/05/blog-post_14.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. accha hai pr mujhe kuch samjh me nhi aaya itni dimga wali kavita
    likhte rehiye
    http://blondmedia.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं