17 नवंबर 2014

मैं और वह

------------------कविता-श्रृंखला
[2]
प्रयोगशाला में बहुत सन्नाटा था, जब मैंने उससे कहा : हाइड्रोजन
वह मुस्कुराई और उसने कहा : ऑक्सीजन
हाइड्रोजन : मैंने एक खाली वीकर उठाया और फिर उसी संजीदगी से कहा
उसके दोबारा मुस्कुराने से पहले ही पानी का जन्म हो चुका था
मैंने कहा: ताजमहल
उसने कहा: यमुना नदी
और हम प्रयोगशाला से बाहर आ गए
_____________
[दिलीप शाक्य ]

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें